रायपुर। लोरमी के पास एक गाँव देवरहट में आम रास्ते पर किये गए अवैध कब्जे को हटाने गए नायब तहसीलदार संजय राठौर पर संसदीय सचिव और क्षेत्रीय विधायक तोखन साहू के समर्थकों ने जानलेवा हमला कर दिया. नायब तहसीलदार को अपने ड्राइवर के साथ जान बचाकर भागना पड़ा. इसकी सूचना कलेक्टर, एडिशनल एसपी और लालपुर थाने को दे दी गयी है.
घटना गुरुवार की सुबह तकरीबन साढ़े 9 बजे की है. घटना के सम्बन्ध में नायब तहसीलदार संजय राठौर ने द वॉइसेस से बातचीत करते हुए बताया – ”देवरहट में कुछ ग्रामीणों द्वारा आम रास्ते पर अवैध कब्जे की शिकायत मिली थी. उस शिकायत के आधार पर हम अवैध कब्जे को हटाने गए थे. हम ग्रामीणों से इस सम्बन्ध में बातचीत कर रहे थे, ताकि शान्तिपूर्वक अवैध कब्जे को हटाई जा सके. वहां कुछ लोग हमारी कार्यवाही का विरोध करने लगे. इसमें से एक देवेंद्र कुमार साहू भी था.
देवेंद्र कुमार साहू ने मुझे कहा कि संसदीय सचिव और विधायक तोखन साहू से बात कर लीजिये और कार्रवाई रोक दीजिये. मैंने उन्हें समझाया कि अगर विधायक महोदय को मेरे से बात करनी होगी, तो वे मुझे मेरे नंबर पर कॉल करेंगे. मैंने देवेंद्र के मोबाइल से बात करने से इंकार कर दिया. इसके बाद वे सभी वहां से लौट आये.”
राठौर ने आगे बताया, ”उस जगह पर अब भी गाली गलौज जारी थी, तो मैंने अपने ड्राइवर से कहा कि लौटने के लिए गाडी लगा ले. हम लौटते समय देवरहट गाँव के बीच में ही पहुंचे थे, कि देवेंद्र और उनके साथियों ने हमारी गाडी पर पथराव करना शुरू कर दिया. गाड़ी को लाठी और डंडे से पीटा गया. मैंने ड्राइवर को कहा कि गाडी को लालपुर थाने की तरफ ले चले. हमने थाने पहुंचकर इस घटना की विस्तृत जानकारी दी, कि कैसे बड़ी मुश्किल से हम अपनी जान बचाकर लौटे.”
नायब तहसीलदार राठौर ने बताया ” जब हम वहां से लौट रहे थे तब मेरे मोबाइल पर संसदीय सचिव तोखन साहू का 98935-93068 नंबर से कॉल आया. उन्होंने मुझे धमकाते हुए कहा कि तुम कितने बड़े तोपचन्द हो मैं देख लूंगा, तुम लोरमी पहुंचो तो बताता हूँ.”
राठौर ने बताया, ” मैंने इस घटना की जानकारी अपने वरिष्ठ अधिकारियों को दे दी है. अभी जिला मुख्यालय मुंगेली में हूँ. लोरमी में स्थिति तनावपूर्ण है. वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन के बाद तहसील मुख्यालय लोरमी जाऊँगा.”
द वॉइसेस ने इस पूरे मामले में संसदीय सचिव तोखन साहू का पक्ष जानने के लिए उनके मोबाइल पर संपर्क किया, तब कॉल उन्होंने रिसीव नहीं किया. कॉल रिसीव करने वाले ने खुद को उनका पीएसओ मनोज ध्रुव बताया और कहा कि माननीय जी अभी एक भागवत कार्यक्रम में हैं. कब तक फ्री हो पाएंगे कुछ बता नहीं सकता, आधा घंटा भी लग सकता है और एक घंटा भी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.