जगदलपुर। बीते दिनों सुकमा जिले के नुलकातोंग क्षेत्र में हुई मुठभेड़ में अब आरोप लगने लगे हैं। कल आम आदमी पार्टी की नेत्री सोनी सोरी ने इस मुठभेड़  को फ़र्ज़ी बताते हुए सुरक्षा बलों द्वारा निर्दोष ग्रामीणों को मौत के घाट उतारने आरोप लगाया । आज पूर्व केंद्रीय मंत्री व कांग्रेसी नेता अरविन्द नेताम ने भी इस पुरे मामले को संदिग्ध बताया है।
नेताम ने पत्रकार वार्ता में कहा कि यह पहली बार होगा, कि मुख्यमंत्री के बयान के बाद जवानों द्वारा तत्काल इतने बड़े ऑपरेशन को अंजाम दिया गया और तत्काल सीएम द्वारा दिल्ली जाकर केंद्रीय गृह मंत्री को इसकी जानकारी दी गयी। इससे यह प्रतीत होता है, कि इसकी तैयारियां पहले ही की जा चुकी थी।  जिस तरह से अखबारों में खबर आई है और पुलिस  के बयान आये है उससे यह पूरा  मामला संदिग्ध लग रहा है।
उन्होंने कहा कि इस मुठभेड़ में कुछ नाबालिगों के मारे जाने की जानकारी निकल कर आ रही है और पुलिस ने भी इस बात को स्वीकार किया है, कि ग्रामीणों को भागते हुए देखा गया था। घटना की जांच सम्बन्धी एक सवाल के जवाब में नेताम ने कहा, कि वे प्रदेश स्तर के कांग्रेस के नेताओं से विचार-विमर्श कर आगे की रणनीति तय करेंगे। नेताम ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि नक्सल समस्या बस्तर की सबसे बड़ी समस्या है। इसका राजनितिक हल ढूँढना चाहिए, गोली के बदले गोली समाधान नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.