बिलासपुर निगम सभापति की दंबगई, घबराया आॅपरेटर काम छोड़कर भागा

0
93
  • वार्ड में सफाई करने पहुंचे एक्सीवेटर आॅपरेटर से की गाली गलौच
  • डर के मारे आॅपरेटर काम छोड़कर भागा
  • निगम आयुक्त से लिखित में की शिकायत, पहले भी ऐसी ही कई मामलों में हो चुकी है शिकायत
बिलासपुर. नगर निगम के सभापति अपनी हरकतों को लेकर एक बार फिर सुर्खियों में हैं। इस बार उन पर मंत्री के दौरे से पहले वार्ड नंबर 42 में सफाई करने पहुंचे एक्सीवेटर को देर होने से गाली गलौच और झूमाझटकी करने का आरोप लगा है। उधर इस मामले में एक्सकेवेटर आॅपरेटर ने मेयर समेत कई अधिकारियों से लिखित शिकायत कर कार्रवाई करने की मांग की है।
शुक्रवार को मंत्री अमर अग्रवाल की जनसंपर्क यात्रा शहीद हेमूनगर कालोनी वार्ड 42 में थी। इसी क्षेत्र में निगम सभापतति और भाजपा नेता अशोक विधानी का घर भी है।
मंत्री के दौरे को देखते हुए सड़क पर पड़े मलबे को हटाने निगम से एक्सकेवेटर लेकर आॅपरेटर रामलाल विश्वकर्मा सुबह 9 बजे हेमूनगर कालोनी पहुंचा। रामलाल को यहां पहुंचने में कुछ देर हो गई तो सभापति विधानी भड़क गए और आॅपरेटर रामलाल से गाली-गलौच करने लगे।
विधानी ने इस दौरान आॅपरेटर से धक्का-मुक्की भी की। रामलाल इससे डर गया और कुछ देर बाद एक्सीवेटर वहीं छोड़कर भाग गया। इसके बाद रामलाल ने निगम पहुंचकर दूसरे वाहन चालकों के साथ विधानी की शिकायत मेयर से की।
वाहन चालकों ने विधानी पर कार्रवाई की मांग रखते हुए कहा कि वे तभी काम करेंगे जब कोई जिम्मेदार अफसर उनके साथ जाएगा। इस मामले में जब अशोक विधानी का पक्ष जानने कॉल किया गया तो उन्होंने कॉल रिसीव नहीं किया।
विधानी की दहशत ऐसी कि कोई अफसर नहीं बोलता
शुक्रवार की हुई घटना से आॅपरेटर बहुत डरा हुआ है। उसने बताया कि विधानी द्वारा गाली-गलौच व झूमाझटकी की सूचना उसने मोबाइल पर निगम के कई अफसरों को सूचना दी लेकिन किसी ने कोई जवाब नहीं दिया। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि अफसरों में विधानी दहशत किस हद तक है।
थाने के अंदर टीआई से उलझे चुके हैं विधानी
भाजपा नेता अशोक विधानी की दबंगई से पुलिस भी नहीं बच सकी है। कुछ महीने पहले ही वे तोरवा टीआई से थाने के भीतर ही उलझ गए थे। बात हाथापाई तक पहुंच गई थी। चूंकि विधानी स्थानीय मंत्री के खास माने जाते हैं इस वजह से पुलिस ने भी इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की और मामले को दबा दिया गया।
निगम कर्मियों से घर में काम कराने का भी लग चुका है आरोप
सभापति विधानी इससे पहले निगम के 3 कर्मचारियों से घर में काम लेने के मामले में फंस चुके हैं। इसकी शिकायत जब आयुक्त से हुई तो सभी कर्मचारियों को उनके घर से रिलीव कराया गया और दूसरे जगह पर काम दिया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.