मोमो चैलेंज ने ली पहली जान, बच्ची ने गेम के कहने पर फांसी लगा ली, ये है बचने का तरीका

0
618
रायपुर। इंटरनेट पर एक खतरनाक गेम फिर से वायरल हुआ है। मोमो चैलेंज नाम के इस खेल ने भारत में पहली जान ले ली है।अजमेर में दसवीं की छात्रा ने फांसी से लटककर जान दे दी है। बच्ची की एक दोस्त ने उसके भाई को बताया था कि वह मोमो चैलेंज के ऑखिरी राउंड में पहुंचने से बेहद खुश है। भाई ने बताया कि खाली वक्त में घर और स्कूल में वह मोमो चैलेंज ही खेलती रहती थी। जांच में यह भी बात सामने आई कि उसने फांसी लगाने से पहले अपनी कलाई भी काटी थी।
मोमो चैलेंज का अमेरिका, अर्जेंटीना, फ्रांस, मेक्सिको और जर्मनी में खासा क्रेज है। इसके कारण पहली मौत अर्जेंटीना में हुई थी जहां एक 12 साल की बच्ची ने आत्महत्या कर ली थी। खेल में किसी अज्ञात नाम से खतरनाक चैलेंज मिलते हैं। गौरतलब है कि पिछले साल ब्लू वेल चैलेंज गेम के कारण पूरी दुनियां में कई बच्चों ने अपनी जान गंवाई थी।
क्या है मोमो चैलेंज?
यह ब्लू वेल चैलेंज की तरह ही जोखिम भरा वाला गेम चैलेंज है। मोमो इसे पूरा नहीं करने पर यूजर को डांटती है और सख्त सजा देने की धमकी भी देती है। इससे यूजर डरकर आदेश मानने को मजबूर हो जाता है। वह मोमो की बातों में फंसकर मानसिक अवसाद में चला जाता है और जान देने को मजबूर हो जाता है। मोमो चैलेंज लेने वालों में ज्यादातर बच्चे और नौजवान हैं।
इस तरह मिलता है चैलेंज
  • पहले यूजर को अज्ञात नंबर मिलता है, जिसे सेव कर Hi-Hello करने का चैलेंज दिया जाता है।
  • अज्ञात नंबर पर बात करने का चैलेंज दिया जाता है।
  • आगे बढ़ने पर संदिग्ध नंबर से यूजर को डरावनी तस्वीरें और विडियो क्लिप्स आते हैं।
  • यूजर को कुछ काम दिए जाते हैं, जिन्हें पूरा नहीं करने पर उसे डराया-धमकाया जाता है।
  • डरकर यूजर खुदकुशी कर लेता है।
इससे बचने के तरीके
  • व्हाट्सअप या फोन पर किसी अज्ञात नंबर पर बात न करें, ना ही ऐसे नम्बर को सेव करे।
  •  कोई आपको मोमो की फोटो भेजे या उससे सम्बंधित कोई काम करने को कहे तो नम्बर को तुरंत ब्लॉक कर दें। कोई जवाब न दें। पुलिस को सूचना दें।
  • मोमो चैलेंज गेम खेलने वाले दोस्तों से दूर रहे।
  • यदि आपके बच्चो में व्यवहारिक, मनोवैज्ञानिक, असामान्य बदलाव, दबाव दिखाई दे तो तुरंत कारण जानने की कोशिश करें।
  • गुमसुम रहना, परिवार के लोगो से बात न करना, अपने में रहना, चुप रहना, अचानक से खाना पीना बंद कर देना, शांत रहना इस तरह के व्यवहारिक बदलाव होने पर कारण जानने की कोशिश करें।
  • सोशल मीडिया से अपने फोन में कोई नम्बर सेव न करें। सेव करने से पहले विश्वसनीयता की जाँच करें।
  • सोशल मीडिया, व्हाट्सअप पर आने वाले किसी भी गलत चैलेंज को न करें। सबसे अच्छा तरीका है की ऐसे चैलेंज को नजरअंदाज कर दें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.