बिलासपुर . मरवाही विधायक और जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे के नेता अमित जोगी कहा है कि प्रदेश के किसानों से बीमा प्रीमीयम के नाम पर जबरन 3300 करोड़ वसूले गए हैं। ये सब कुछ सरकार ने बीमा कंपनियों को फायदा पहुंचाने के लिए किया है। यह खेल यूपीए सरकार के वक्त से शुरू हुआ था। उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा शासित तीन राज्यों में किसानों का कर्जा माफ कर दिया गया है, लेकिन छत्तीसगढ़ में एक रुपए भी माफ नहीं हुआ है।
पत्रकारों से चर्चा करते हुए जोगी ने कहा कि वर्ष 2016-17 में 71 हजार 941 किसानों का फसल बीमा कराया गया था। किसानों की सहमति के बिना बीमा किया गया और प्रीमियम की राशि काट ली गई। बीमा के नाम पर 7 सौ 76 करोड़ रुपए केसीसी एकाउंट से हर साल प्रीमियम की राशि के तौर पर काटा गया। इस तरह किसानों से 3300 करोड़ रुपए बिना सहमति के वसूल लिए गए। प्रदेश सरकार ने जो इंश्योरेंस कराया है, वह थर्ड पार्टी है।
इन कंपनियों को सरकार ने पहुंचाया फायदा
सरकार ने 7 इंश्योरेंस कंपनियों को बीमा के माध्यम से लाभ पहुंचाया है। अमित ने बताया कि इफ्को टोकियो, चोला मंडलम बजाज, आईसीआईसीआई लोम्बार्ड, यूनिवर्सल इंश्योरेंस, एसडीएफसी समेत अन्य इंश्योरेंस कंपनी को फायदा पहुंचाया गया।
नहीं खोला गया मौसम मापक केंद्र
उन्होंने कहा कि वर्ष 2014 में यूपीए की सरकार थी, तब मौसम आधार बीमा योजना लागू की गई थी। उस समय कहा गया था कि हर 10 किलोमीटर में मौसम मापक केंद्र खोले जाएंगे। बिलासपुर जिले में 4 साल हो गए हैं, लेकिन मापक केंद्र नहीं खोला गया, जबकि किसानों से बीमा कंपनी को राशि दी गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.