एक और बड़े नेता का निधन, एड्स और मलेरिया से निपटने ग्लोबल फंड की स्थापना की थी

1
137
दिल्ली। दुनिया में एड्स, टीबी और मलेरिया से निपटने के लिए ग्लोबल फंड बनाने वाले और संयुक्त राष्ट्र के पूर्व महासचिव और नोबेल पुरस्कार से सम्मानित कोफी अन्नान का बीमारी के बाद शनिवार  को निधन हो गया है। कोफी अन्नान कुछ समय से बीमार थे। ये 80 साल के थे। उनके निधन की  कोफी अन्नान के फाउंडेशन ने यह जानकारी दी।  फाउंडेशन ने एक बयान में कहा, ‘बड़े दुख के साथ अन्नान परिवार और कोफी अन्नान फाउंडेशन यह घोषणा करते हैं कि संयुक्त राष्ट्र के पूर्व महासचिव और नोबेल पुरस्कार से सम्मानित कोफी अन्नान का बीमारी के बाद निधन हो गया है।
कोफी संयुक्त राष्ट्र महासचिव बनने वाले पहले अश्वेत थे। 2001 में उन्हें शांति के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। कोफी के निधन पर यूएन के मौजूदा महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा कि किसी भी अच्छे काम के पीछे वे एक मार्गदर्शक की तरह थे।इनके जन्म घाना के कुमासी के एक संपन्न परिवार में हुआ था। उनके पिता प्रांतीय गवर्नर और दादा दो जनजातियों के प्रमुख थे।
कोफी के ही कार्यकाल में संयुक्त राष्ट्र ने आतंकवाद निरोधक रणनीति बनाई। 1990 में इराक के कुवैत पर हमले के दौरान कोफी ने 900 से ज्यादा अंतरराष्ट्रीय स्टाफ और गैर-इराकी लोगों को उनके देश भेजने में मदद की। उन्होंने इराक को भी इस बात के लिए राजी किया कि मानवीय राहत के लिए तेल की बिक्री की जाएगी। 1999 में इंडोनेशिया से अलग ईस्ट तिमोर को अलग देश बनाने में कोफी की प्रमुख भूमिका रही।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.