By शांतिलाल साहू
बिलासपुर। फोन करके एटीएम का कोड पूछकर ऑनलाइन ठगी करने वाले अंतरराज्यीय गिरोह का बिलासपुर पुलिस ने पर्दाफाश किया है। चौंकाने वाली बात यह है कि गिरोह में झारखंड राज्य के तामजाड़ा जिले के 100 गांव के करीब 1000 लोग इसके सदस्य हैं। जो फ्रेंचायजी लेकर ठगी के गोरखधंधे को अंजाम दे रहे हैं। गिरोह के दो सदस्यों को गिरफ्तार कर पुलिस बिलासपुर पहुंची। आरोपियों के पास से 3 लाख रुपए, 2 मोबाइल, सिम कार्ड, 1 एटीएम कार्ड के साथ एयर टिकट और बोर्डिंग पास बरामद किए गए हैं। गिरोह के सरगना समेत चार आरोपियों की तलाश की जा रही है।
एएसपी शहर नीरज चंद्राकर ने शुक्रवार की शाम बिलासा गुड़ी में प्रेस कांफ्रेंस लेकर मामले का खुलासा करते हुए बताया कि पूनम साहू पति राजू साहू बीते दिनों ऑनलाइन ठगी का शिकार हुई थी। उनके मोबाइल नंबर पर कॉल कर 5 मई से 7 मई के बीच बैंक खाते से 1.45 लाख रुपए की ठगी की गयी थी। पुलिस ने ऑनलाइन रुपए हस्तांतरण करने वाली कई साइट से जानकारी ली और ठग गिरोह के संबंध में पता लगाया।
टीम के सदस्यों ने वेश बदलकर जामताड़ा, गिरीडीह, देवघर थाना क्षेत्र के कई गांवों में ठगी करने वाले गिरोह के संबंध पता लगाया। लोकेशन मिला तो टीम उन गांवों में गई। इस दौरान 100 से अधिक गांवों में ठग गिरोह के सदस्य सक्रिय होने का खुलासा हुआ।
अलगचुंआ का कलीम अशरफ है सरगना
पुलिस के अनुसार झारखंड के अलगचुंआ निवासी कलीम अशरफ पिता स्व. मौलाना नौशाद गिरोह का मुख्य सरगना है। उसने 100 गांवों के 1000 से अधिक लोगों को प्रशिक्षित किया है और इनसे ही बैंक संबंधी जानकारी एकत्र करवाता है। पुलिस के अनुसार मुख्य सरगना कलीम के दो खास सहयोगी हैं, जो कलीम द्वारा दिए गए एटीएम नंबर से रुपए निकालकर उन तक पहुंचाते हैं।
ऐसे पकड़े गए दो आरोपी
जामताड़ा में पुलिस की टीम को पता चला कि सरगना कलीम दोनों सहयोगियों को हवाई जहाज या ट्रेन रूट से दिल्ली मार्ग से जामताड़ा भेज रहा है। पुलिस ने कोलकाता एयरपोर्ट, हावड़ा रेलवे स्टेशन, कोलकाता रेलवे स्टेशन, सियालदा स्टेशन में जाल फैलाया, लेकिन हवाई जहाज से यात्रा करने के कारण दोनों आरोपी नहीं मिले। इसी बीच पुलिस को पता चला कि दोनों सहयोगी रेल मार्ग से जामताड़ा के कर्मातांड आने वाले हैं। इस आधार पर पुलिस की टीम ने मुख्य सरगना कलीम के सहयोगी अलगचुंआ निवासी रिजवान अंसारी पिता मकसूद व इजराइल अंसारी पिता अली मोहम्मद को गिरफ्तार कर लिया।
पंजाब से जुड़ा हुआ है तार
पकड़े गए दोनों आरोपियों ने बताया कि कलीम ने दोनों को हवाई टिकट देकर दिल्ली भेजा था। इन्हें बताया गया था कि दिल्ली में उन्हें पंजाब के भटिंडा निवासी मोहित मिलेगा। दिल्ली में वह मिला और रुपए दिए, जिसे लेकर दोनों रेल मार्ग से गांव लौट रहे थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.