By हितेश शर्मा
दुर्ग। अपने ही राज्य के राजपाल और अपनी ही पार्टी के सबसे वरिष्ठ नेता अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर राजकीय शोक के दौरान जगह-जगह शराब दुकान खुले होने के कारण जोगी कांग्रेस ने इसका कड़ा विरोध जताया है। शनिवार को संभाग युवा जनता कांग्रेस जोगी के तत्वाधान में छतीसगढ़ सरकार के द्वारा घोषित राजकीय शोक में सभी सरकारी कार्यलय ओर स्कूल्स-कॉलेज को बंद रखने का निर्देश दिया गया है। लेकिन दुर्भाग्य का विषय ये है इन बंद की घोषणा में शराब दुकानो को नहीं बंद किया गया है। जो कि बहुत ही शर्मनाक ओर सरकार कि असंवेदना जताता है। जिसके विरोध मे कलेक्टोरेट पर प्रदर्शन कर तत्कालीन राजपाल आनंदी बेन के नाम का ज्ञापन नायब तहसीलदार नायक को ज्ञापन सौंपा गया।
read also: शिक्षाकर्मियों के लिए कल का दिन होगा निर्णायक, आंदोलन और सम्मेलन के चक्रव्यूह से निकलने हो सकता है फैसला!
दुर्ग संभाग अध्यक्ष अय्युब खान और उपध्यक्ष अभिषेक शर्मा ने सयुक्त रुप से कहा कि इन महान विभूतियों के निधन पर प्रदेश का सभी वर्ग श्रद्धांजलि अर्पित कर रहे हैं। खुद चेंबर्स ऑफ कॉमर्स ने दुकाने बंद की घोषणा की है। सरकार ने अपने सभी उपक्रम यहां तक शासकीय उचित मूल्य कि दुकान (राशन दुकान ) तक बंद रखी है जिसमे प्रदेश कि जनता को राशन भले ना मिले लेकिन शराब दुकान मिले ये कैसी नीति रमन सरकार की। जबकि शराब दुकान को सरकार ही चला रही है। शराब दुकान के कर्मचारी को वेतन सरकार के द्वारा अधिकृत एजेंसिस के माध्यम से ही जाता है और नौकरी पर आबकारी के द्वारा ही भरी जाती है तो शराब दुकान पूरी शासकीय है। ऐसे में राजकीय शोक के दौरान शराब दुकानें क्यों बंद नहीं की गयी।
read also: Breaking: जनताना सरकार का अध्यक्ष गिरफ्तार, एक लाख का था इनाम
इन बातो से रमन सरकार का दोहरा चरित्र उजागर होता है। हम युवा जनता कांग्रेस जोगी के नेता और कार्यकर्ता ये मांग करते है कि रमन सरकार को बर्खास्त करे और 16 और 17 अगस्त कि प्रदेश भर के शराब दुकानों से बिके हुऐ शराब के रुपए से प्रदेश के किसानो या गरीब बच्चो के शिक्षा के लिये दान करे ।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.