by शांतिलाल साहू
बिलासपुर। शहर में पोस्टरवार रुकने का नाम नहीं ले रहा है। सेठ तो ग्यो… पोस्टर चिपका रहे मजदूरों को सोलन पुलिस पकड़कर थाने ले आई और पांच-छह घंटे बिठाये रखा। इसकी जानकारी कांग्रेसियों को मिले तो सारे बड़े नेता सिविल लाइन थाने पहुंचे और जमकर हंगामा मचाया। इस दौरान कांग्रेस नेताओ-पुलिस के बीच काफी देर बहस चलती रही। इसके बाद मजदूरों को पुलिस ने छोड़ दिया।
गौरतलब है कि वॉल पेंटिंग पोस्टर चिपकाने को लेकर कुछ दिन पहले अरुण तिवारी और तरु तिवारी के खिलाफ निगम ने जुर्म दर्ज करने की अनुशंसा एसपी से की गई थी। इसके बाद कांग्रेसियों ने निगम प्रशासन और मंत्री के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था। शनिवार को एक बार फिर पोस्टर वार देखने को मिला।
सिविल लाइन थाना क्षेत्र में 2 मजदूर सेठ तो गयो पोस्टर चिपका रहे थे। इसी बीच सिविल लाइन थाने में किसी ने इसकी शिकायत कर दी। मामला स्थानीय मंत्री व विधायक से जुड़ा होता देख पुलिस ने दोनों दोनों को थाने ले आई। इसके बाद मजदूरों को करीब 5 घंटे तक थाने में बैठाए रखा। इसकी भनक कांग्रेसियों के लगते ही कांग्रेसी नेता सिविल लाइन थाने पहुंच गए। कांग्रेसियों ने पुलिस पर मंत्री के दबाव में काम करने का आरोप लगाया। इस दौरान काफी देर तक पुलिस और कांग्रेसियों के बीच बहस चलती रही। तुम्हें मजदूरों को पुलिस ने समझाई देकर छोड़ दिया।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.