राजनांदगाँव में नगर निगम वार्ड नं 24 के उपचुनाव में आचार-संहिता का उल्लंघन

by अखिलेश खोब्रागढ़े
राजनांदगाँव। शहर के वार्ड नंबर 26 में 24 जून को पार्षद पद के लिए उपचुनाव कल संपन्न किए जाने हैं लेकिन 2 दिनों से इस चुनावी क्षेत्र में राजनीतिक माहौल बहुत गरमा गई है। मामला पूरा ऐसा है कि 21 फरवरी 2017 को इसी वार्ड के पार्षद शकील अंसारी का हार्ट अटैक से निधन हो गया था, जिसके चलते उपचुनाव किए जाने हैं। इसी वार्ड से कांग्रेस से प्रत्याशी शकील अंसारी दो बार पार्षद पद पर काबिज रहे हैं। उनके निधन के बाद अब 24 जून या निकल रविवार को वोटिंग होनी है। चुनाव प्रचार का अंतिम दिन दोनों ही पार्टियां अपनी अपनी ताकत झोंक दी है, क्योंकि यह जिला मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह का निर्वाचन क्षेत्र है और सारे जिले और प्रदेश की राजनीति ऐसा माना जाता है कि यहीं से संचालित की जाती हैं। ऐसे में लाजमी है कि पार्षद के उपचुनाव के इलेक्शन प्रतिष्ठापूर्ण हो रहे हैं।

जहां चुनाव होना है वही बखेड़ा

नगर निगम की सत्ता में काबिज भारतीय जनता पार्टी विवादों में उलझ गई है। यहां भाजपा नेताओं पर भरका पारा बालिका प्राथमिक शाला के दो कमरों में आनन फानन में जिम स्थापित करने के नाम पर तोड़फोड़ का आरोप लगा है। वहीं शहर कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष दिनेश शर्मा की शिकायत है कि यह सारा वोटरों को रिझाने का हथकंडा है। स्कूल के प्रचार पी. वैष्णव ने बताया कि उनके स्कूल में आकर भाजपा के नगर निगम सभापति शिव वर्मा ने यहां स्कूल परिसर में आकर कहा कि कमरों को जिम के लिए दिया जा रहा है। आप इसे खुलवा दीजिए।
इसी वार्ड में जमकर चुनावी अभियान चल रहा था एक और कांग्रेस दूसरी ओर भाजपा अपने दलों के रैलियों के साथ वोटरों को रिझाने में लगे थे। भाजपा के निगम अध्यक्ष और इस वार्ड के चुनाव प्रभारी शिव वर्मा से पूछा कि आपने आचार संहिता लगने के बाद स्कूल परिसर में जाकर मैडम को मौखिक आदेश देते हुए किस बूते पर क्लास रूम के 2 रूम को तोड़ दिया जिससे आने वाले समय में पढ़ने वाले विद्यार्थी को परेशानी होगी क्योंकि इस क्लास रूम में उस हिस्से को तोड़ा गया जहां पर ब्लैक बोर्ड बना हुआ था। लेकिन नेता जी इस बात से साफ इंकार कर दिया और कहा कि मुझे इसकी जानकारी नहीं। वैसे हम आपको बता दें कि इस तरह के कई मामलों में निगम सभापति सुर्खियों में बने रहते हैं।

जो भी दोषी पाया जाएगा उस पर कार्रवाई होगी

घंटों उठापटक के बाद बहुत-बहुत हंगामेदार और गर्म हो चुका था। आसपास के लोग भी आकर भड़क उठे और कहने लगे कि सत्ता है तो कुछ भी करोगे क्या। करीब 2 घंटे बाद SDM ने एक टीम भेजी। जिस कमरों में तोड़फोड़ हुई थी उस कमरे की चाबी के लिए फिर उन्हें लगभग डेढ़ घंटा इंतजार करना पड़ा। लम्बे इंतजार के बाद रूम को खोला गया और देखा गया कि वाकई ब्लैक बोर्ड के नीचे का हिस्सा टूटा हुआ और जिम का सामान पहले से हटाकर रख दिया गया है। स्कूल में जांच टीम ने मुआयना किया और SDM को रिपोर्ट सौंप दी। वहीं हमने SDM से पूछा कि आचार संहिता में ऐसा क्यों तो SDM साहब ने अपने कम शब्दों में हमें बता दिया कि उस वार्ड में आचार संहिता लगी हुई है और इस पर जो भी दोषी पाया जाएगा उस पर कार्रवाई होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.