गज़ब सरगुजा..! ODF शहर सफाई में अव्वल और गाँव के शौचालय में बन रहा खाना

0
430
रायपुर। छत्तीसगढ़ के कुछ जिले ऐसे भी हैं, जिन्हें साफ सफाई के मामले में कई पुरस्कार मिल चुके हैं लेकिन स्वच्छता के मामले में वहां की हकीकत कुछ और ही है।
सरगुजा जिले को स्वच्छता के मामले में देश में अव्वल ईनाम मिला है और उसी जिले में ओडीएफ का ऐसा मामला सामने आया है, जो एकबारगी यकीन करने लायक नहीं है, लेकिन दैनिक अखबार नईदुनिया-जागरण में प्रकाशित एक खबर के अनुसार- ‘सरगुजा जिले को खुले में शौच मुक्त जिला घोषित तो कर दिया गया है, लेकिन ग्रामीण इलाकों में शौचालयों की स्थिति काफी दयनीय है। जिले के बतौली में फर्जी आंकड़ों के सहारे अधिकारियों ने विकासखंड को तो ओडीएफ घोषित करवा लिया, लेकिन जमीनी स्तर पर हालात ये हैं कि यहां आज भी कई शौचालयों का काम आधा अधूरा पड़ा है।’
खबर कहती है, ‘ग्राम पंचायत भट्को में एक ग्रामीण महिला शौचालय में भोजन बनाती नजर आई। यही नहीं, खुले सेप्टिक टैंक में बारिश का पानी जमा है, जिसे वह महिला दैनिक उपयोग में ला रही है। इस तरह की स्थिति यहां कई जगहों पर देखने को मिली। क्षेत्र में ओडीएफ के नाम पर पैसा पानी की तरह बहाया गया, लेकिन जमीनी स्तर पर इसका क्रियान्वयन देखकर समझ आता है कि सिर्फ कागजों पर ही यहां के गांव ओडीएफ हो पाए हैं।’
‘आदिवासी बाहुल्य इस इलाके में जागरूकता के अभाव में अब भी लोग खुले में ही शौच कर रहे हैं। जबकि सरकार द्वारा बनवाए गए ज्यादातर शौचायल आधे-अधूरे होने के कारण या तो रसोईघर के रूप में उपयोग हो रहे हैं या फिर छोटे मवेशियों और मुर्गियों को रखने के लिए ग्रामीण इनका इस्तेमाल कर रहे हैं।’
खबर में दावा है, कि ‘सरकारी मदद से बनाए गए ज्यादातर शौचालयों में सीट ही स्थापित नहीं की गई है साथ ही सैप्टिक टैंक भी खुले पड़े हैं। इनमें बारिश का पानी भरने से दुर्घटनाएं भी हो रही हैं।’
इस मामले में जिले की प्रभारी कलेक्टर नम्रता गांधी के अनुसार, ‘ मुझे इस मामले की जानकारी नही है। पता लगाकर उचित जानकारी दे पाऊंगी।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.